मंगलवार, 24 फ़रवरी 2015

आया फागुन आया बसंत

                     
                    
आया फागुन आया बसंत 
सूखे ठिठुरे थे जाड़े भर 
वे पादप भी है बौरमंत 
अनगिन पुष्पों के सौरभ से 
गर्भित होकर आया बसंत  |

उज्जवल बालों पिचके गालों 
में भी रस भर देता बसंत 
कोयल की टीस भरी बोली 
पी पी पुकारती कहाँ कंत ?
आया फागुन आया बसंत  |

ए कामदेव के पुष्प बाण 
कोमल किसलय से सजे वृक्छ
ए मंद पवन की सुखद छुवन 
ए महक-चहक़ से भरे बाग़ 
बच के रहना सब साधु -संत 
आया फागुन आया बसंत |||

4 टिप्‍पणियां:

  1. ये रंग नहीं फूल हैं ऋतुराज की ससुराल के
    आपको सपरिवार होली की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ .....!!
    http://savanxxx.blogspot.in

    जवाब देंहटाएं
  2. Looking to publish Online Books, in Ebook and paperback version, publish book with best
    Free E-book Publishing Online

    जवाब देंहटाएं
  3. शानदार! बहुत ही अच्छा लिखा है। ऐसे ही लिखते रहिए। हम भी लिखते हैं हमारे लेख पढ़ने के लिए आप नीचे क्लिक कर सकते हैं।
    अजवाइन के फायदे
    दूध से निखारें अपनी त्वचा

    जवाब देंहटाएं
  4. क्या खूब कहा आपने बहुत अच्छा कविता शेयर किया है आप ने ऐसे लिखते रहिये आप बहुत अच्छा लिख रहे है
    अगर आप हमारे लेख पढ़ना चाहते है तो नीचे क्लिक करिए
    Punjabi shayari on love
    Maut shayari in hindi

    जवाब देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में