शुक्रवार, 21 अक्तूबर 2011

आज मौसम फिर बदलने लग गया


आज मौसम फिर बदलने लग गया।
शान्त मन फिर से मचलने लग गया।।


धूप कल तक तो बहुत प्यारी लगी,
खुला आँगन आज खलने लग गया।


घर हमारा पत्थरों का था बना,
गर्म सांसों से पिघलने लग गया।


मेरी उंगली थाम के जो चलता था,
उसको थामे कोई चलने लग गया।


डूबता सूरज समन्दर में दिखा,
चाँद बाहर को उछलने लग गया।


हर किसी ने क्यों मेरी तारीफ़ की,
हर कोई मुझसे ही जलने लग गया।


बहुत चाहा प्यार फिर भी न मिला,
दर्द से ही दिल बहलने लग गया।


बहुत चाहा उम्र को रोके रखूँ,
हर एक पल, पल-पल फिसलने लग गया।
                                                                -विजय

13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत चाहा उम्र को रोके रखूँ,
    हर एक पल, पल-पल फिसलने लग गया।waah

    उत्तर देंहटाएं
  2. घर हमारा पत्थरों का था बना,
    गर्म सांसों से पिघलने लग गया।

    वाह ………………गज़ब के भाव हैं…………शानदार गज़ल्।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन गज़ल है। कुछ शेर तो बेहद लाज़वाब लगे जैसे कि यह..

    मेरी उंगली थाम के जो चलता था,
    उसको थामे कोई चलने लग गया।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर प्रस्तुति |
    त्योहारों की यह श्रृंखला मुबारक ||

    बहुत बहुत बधाई ||

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी यह सुन्दर प्रस्तुति कल सोमवार दिनांक 24-10-2011 को चर्चामंच http://charchamanch.blogspot.com/ की भी शोभा बनी है। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर
    आपको दीप पर्व की सपरिवार सादर शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  7. मेरी उंगली थाम के जो चलता था,
    उसको थामे कोई चलने लग गया।
    बहुत ही उम्दा रचना!


    दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें!
    जहां जहां भी अन्धेरा है, वहाँ प्रकाश फैले इसी आशा के साथ!
    chandankrpgcil.blogspot.com
    dilkejajbat.blogspot.com
    पर कभी आइयेगा| मार्गदर्शन की अपेक्षा है|

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी सुन्दर टिप्पड़ियो के लिए बहुत बहुत धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  9. महोदय जैसा कि आपको पहले ही माननीय श्री चन्द्र भूषण मिश्र 'ग़ाफ़िल' द्वारा सूचित किया जा चुका कि आपके यात्रा-वृत्त एक शोध के लिए सन्दर्भित किए गये हैं उसको जिस रूप में प्रस्तुत किया गया है वह ब्लॉग ‘हिन्दी भाषा और साहित्य’ http://shalinikikalamse.blogspot.com/2011/10/blog-post.html पर प्रकाशित किया जा रहा है। आपसे अनुरोध है कि आप इस ब्लॉग पर तशरीफ़ लाएं और अपनी महत्तवपूर्ण टिप्पणी दें। हाँ टिप्पणी में आभार मत जताइएगा वरन् यात्रा-साहित्य और ब्लॉगों पर प्रकाशित यात्रा-वृत्तों के बारे में अपनी अमूल्य राय दीजिएगा क्योंकि यहीं से प्रिंट निकालकर उसे शोध प्रबन्ध में आपकी टिप्पणी के साथ शामिल करना है। सादर-
    -शालिनी पाण्डेय

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में