गुरुवार, 15 अगस्त 2013

नंगा नाचे फाटे का?

कहते  हैं राजनीति गन्दी हो गयी अरे  ! ये साफ़ ही कब थी ?
फर्क  ये है कि पहले 
"ऊँट चरावे निहुरे निहुरे "
और  अब ......
" नंगा नाचे फाटे का ?"

पहले  लोक लाज का डर था 
बड़े बुज़ुर्ग थे - पञ्च प्रवरथा 
राजनीति में पहले भी अनीति थी 
अब भी है ..
फर्क ये है कि अब 
"जब नाचै तब घूघट का ?"
राजा  का पुत्र पहले भी राजा होता था 
अब भी होता है ..
चाहे वे इंदिरा-राजीव-राहुल हों
चाहे दामाद वाड्रा 
अखिलेश -सचिन -राबड़ी हों
चाहे कनिमोझी ,स्टालिन,अब्दुल्ला !
जब सब कुछ निरंतरता का ही पोषक है 
क्यों मचा रहे हों हल्ला ?
अगर आप सफाई कर्मी है 
तो राजनीति में कूद पड़े 
वरना झाड़िय' इससे अपना पल्ला!!

3 टिप्‍पणियां:

  1. क्यों मचा रहे हों हल्ला ?
    अगर आप सफाई कर्मी है
    तो राजनीति में कूद पड़े
    वरना झाड़िय' इससे अपना पल्ला!!

    बहुत सुंदर सटीक रचना,,,

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,
    RECENT POST: आज़ादी की वर्षगांठ.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपके शब्द तो सफाई कर्मी ही बना देंगे ..पल्ला छोड़कर जाने से सब कुछ मिट जाएगा ..इस व्यवस्था के प्रति आपका आक्रोश साफ़ साफ़ झलक रहा है ..सादर प्रणाम के साथ

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में