रविवार, 1 जनवरी 2012

सपना और सच्चाई

स्वच्छ नीलाकाश में चिड़ियों का मस्त तिरना,
कोमल-रक्ताभ कोपलों पुष्पों के मध्य फिरना,
बचपन से मुझे लालसा के झूले में झुलाता है
निर्बन्ध-सीमाहीन दुनिया में बुलाता है।

हर रात सपने में भुजाएं तौल मैं उड़ता हूँ,
कभी श्याम, कभी स्वेत अश्व पर चढ़ता हूँ,
समुद्र की अतुल गहराइयों में मछलियों सा नग्न
आनन्द में तिरोहित और फिर स्वप्न भंग।

जीवन की आवश्यक आवश्यकताओं से दो-चार,
बेलगाम-गतिमान ख़र्चे की घोड़ी पर सवार
मन प्रलोभनों के गहरे समुद्र में गोते लगाता है,
और फिर संभलते-संभलते अन्ततः बेपर्द हो जाता है।

आदिकाल से सपने और सच्चाई का यह अन्तर,
विचारशील हृदय को रख देता है मथकर,
कैसे होंगे वे जिनके सपने सच हुए होंगे!
इस मृत्युलोक में मरणोपरान्त जो जिए होंगे।।
                                                                         -विजय

10 टिप्‍पणियां:

  1. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाओ के साथ आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप तथा आपके परिवार के लिए नववर्ष की हार्दिक मंगल कामनाएं
    आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 02-01-2012 को सोमवारीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  3. बाप रे..!
    हमारी बधाई स्वीकार करें गुरूदेव।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अर्थपूर्ण रचना ....नववर्ष की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर और अर्थपूर्ण रचना...
    नव वर्ष की शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदिकाल से सपने और सच्चाई का यह अन्तर,
    विचारशील हृदय को रख देता है मथकर,
    कैसे होंगे वे जिनके सपने सच हुए होंगे!
    इस मृत्युलोक में मरणोपरान्त जो जिए होंगे।।
    बहुत खूब ......आप जैसे ही होंगें आप ,जैसे ही हुए होंगे.....काल जई रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  7. जीवन की आवश्यक आवश्यकताओं से दो-चार,
    बेलगाम-गतिमान ख़र्चे की घोड़ी पर सवार
    मन प्रलोभनों के गहरे समुद्र में गोते लगाता है,
    और फिर संभलते-संभलते अन्ततः बेपर्द हो जाता है।

    SHUKL JI APKI YH RACHANA ANTAHKARAN KO PRABHAVIT KARTI HAI ..... ABHAR KE SATH HI NAV VARSH PR AK PRABHAVSHALI RACHANA KE LIYE BADHAI BHI.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर~~विजय जी,भावपूर्ण,अर्थपूर्ण जबरजस्त प्रस्तुति,...
    नया साल आपके जीवन को प्रेम एवं विश्वास से महकाता रहे,


    --"नये साल की खुशी मनाएं"--

    उत्तर देंहटाएं
  9. समस्त ब्लोगेर बंधुओ को नव्म्वर्ष की शुभकामनाये.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर सार्थक भावाभिव्यक्ति
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में