रविवार, 18 दिसंबर 2011

हाइकू-

1-
चपरासी से आई.ए.यस. तक,
रिजेक्ट भये सेलेक्शन मां,
तब खड़ा भये इलेक्शन मां।
2-
ई पब्लिक बड़ी होशियार है,
गुंडन से येका प्यार है,
और उनकै बेड़ा पार है।
3-
वोट मागै जे आवै,
दूध-पूत सब पावै,
इच्छा हमार है।
4-
वोट देवै जे जाई,
लात-घूसा ते पाई,
देह तौ तोहार है।
5-
एक बार जिताय देव,
लाल बत्ती पाय देव,
फिर का तोहार है!
6-
जीतेक बाद मौज़ करब,
अमरीका कै सैर करब,
आये इलक्शन फिर लड़ब!
7-
हम लगायन हम पायन,
यहमां कौन गोहार है?
सांसद-निधि हमार है!
8-
सुरा-सुन्दरी से क्यौ बचा है?
केहुक उज़ागिर केहुक पचा है,
चर्चा ही बेकार है!
9-
चोरकट, चिरकुट सुनत रहब,
जी सर! जी सर! करत रहब,
आदत हमार है!
                                                      -विजय 

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा आज दिनांक 19-12-2011 को सोमवारीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  2. भ्रष्ट हो चुके समाज और गिरते मानवीय स्तर को रेखांकित करती हुई कविता निश्चय ही अपने आप में अनूठी लगी ... शुक्ल जी सादर आभार के साथ हार्दिक बधाई |

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में