शनिवार, 24 दिसंबर 2011

वक्त की मार

समस्त जीवन का प्यार
मधुरता-अवलम्ब-जीवनाधार
हंसते-बतियाते-रूठते-मनाते
लम्बे सफ़र पर
बहुत-बहुत दिनो तक
अनन्त तक,
साथ चलने का आग्रह
वादा-संकल्प-विचार,
आजमाते, थहियाते एक दूजे को
कभी जीत, कभी हार।
बाहों में थाम लेने को जब सामने,
पड़ा हो सारा आकाश-सारा संसार
कभी देखा है?
उल्लास-उमंगों की ऊँची तरंगों को,
सहसा सन्नाटा साधते?
जैसे उफनते दूध पर पड़ गयी हो
शीतल जलधार!
जिन तरंगों में साहस-दमखम-उन्माद था
तूफ़ान से भिड़ने-खेलने का
एक हल्के हवा के झोंके से
सहमते-सिमटते देखकर
एहसास होता है कि
कितना कठिन-दुस्सह है
वक्त की मार।।
                                                    -विजय 

8 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल सोमवारीय चर्चामंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  2. vaqt ki maar vaastav me sahna kathi hai jo us vaqt usko jhel le aur sambhal jaaye vahi jinagi hai.
    bahut achche bhaav hain behtreen prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  3. परिस्थियों के अनुरूप सामंजस्य बिठाना आज युग में एक कठिन चुनौती है ... आपकी रचना निश्चय ही एक सार्थक अभिव्यक्ति है | आभार शुक्ल जी |

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिन तरंगों में साहस-दमखम-उन्माद था
    तूफ़ान से भिड़ने-खेलने का
    एक हल्के हवा के झोंके से
    सहमते-सिमटते देखकर
    एहसास होता है कि
    कितना कठिन-दुस्सह है
    वक्त की मार।।
    परिस्थियों के अनुरूप सामंजस्य बिठाना आज युग में एक कठिन चुनौती है ... आपकी रचना निश्चय ही एक सार्थक अभिव्यक्ति है | आभार शुक्ल जी |

    उत्तर देंहटाएं
  5. जीवन ज्वार-भाटा है,उन पर तैरती,जीवन-आशा है.सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर सार्थक रचना,...अच्छी प्रस्तुती,
    क्रिसमस की बहुत२ शुभकामनाए.....

    मेरे पोस्ट के लिए--"काव्यान्जलि"--बेटी और पेड़-- मे click करे

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में